Wednesday, April 9, 2008

Water is precious !

7 comments:

sanjay patel said...

तस्वीर पर आकर क़ायनात के सारे रंग खु़शनुमा दिखाई देने लगते हैं.श्वेत-श्याम साबित करते हैं कि सारे रंगत तो इन्हीं में पोशीदा है.स्याम रंग ऐसो जिस पर चढ़े न दूजो रंग....बस यूँ ही क़ैद किये जाएँ वह सब कुछ जो ख़ूबसूरत है या नहीं भी तो बज़रिये आपके कैमरे की आँख के हो जाएगा.

सिद्धार्थ जोशी Sidharth Joshi said...

कई हजार शब्‍दों की एक तस्‍वीर। आपकी तस्‍वीरें दिल को छू जाती हैं।

Tanveer Farooqui said...

Sidharth, bohot bohot shukriya aap ko tasveerain pasnd aayeen

किरण राजपुरोहित नितिला said...

भावों की निशब्द कविता है यह चित्र!!!!
हमेशा फोटोग्राफी के ब्लॉग तलाश करती हूं। लगता है आज तलाश पूरी हुई।

किरण राजपुरोहित नितिला said...

भावों की निशब्द कविता है यह चित्र!!!!
हमेशा फोटोग्राफी के ब्लॉग तलाश करती हूं। लगता है आज तलाश पूरी हुई।

किरण राजपुरोहित नितिला said...

भावों की निशब्द कविता है यह चित्र!!!!
हमेशा फोटोग्राफी के ब्लॉग तलाश करती हूं। लगता है आज तलाश पूरी हुई।

किरण राजपुरोहित नितिला said...

भावों की निशब्द कविता है यह चित्र!!!!
हमेशा फोटोग्राफी के ब्लॉग तलाश करती हूं। लगता है आज तलाश पूरी हुई।